गुना / जगनपुर में दलित किसान की पुलिस पिटाई मामले में होगी मजिस्ट्रियल जांच

  • गृहमंत्री ने कहा दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा
  • राज्य शासन ने देर रात ग्वालियर रेंज के आइजी राजाबाबू सिंह गुना के कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक को हटा दिया गया

भोपाल : गुना में दलित किसान की पुलिस द्वारा पिटाई मामले पर कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी एस.विश्वनाथन द्वारा 14 जुलाई 2020 को जगनपुर चक में शासकीय आदर्श महाविद्यालय के लिए आवंटित भूमि से अतिक्रमण मुक्त कराने के दौरान उत्पन्न हुई अप्रिय घटना की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए गए हैं। उन्होंने जांच के बिन्दु तय करते हुए अनुविभागीय दण्डाधिकारी आरोन के.एल. यादव को जांच उपरांत 30 दिवस में प्रतिवेदन देने के आदेश दिए हैं।

जिला दण्डाधिकारी विश्वनाथन ने बताया कि पुलिस अधीक्षक जिला गुना द्वारा 15 जुलाई 2020 को अवगत कराया गया था कि गुना में जगनपुर चक में नवीन शासकीय आदर्श महाविद्यालय के लिए आवंटित भूमि पर गब्बू पारदी द्वारा अतिक्रमण कर राजकुमार अहिरवार को खेती हेतु बटाई पर दी गयी थी। इस अतिकमण को 14 जुलाई 2020 को राजस्व एवं पुलिस विभाग के संयुक्त दल द्वारा हटाए जाने के दौरान राजकुमार अहिरवार एवं उसकी पत्नि सावित्रीबाई द्वारा कीटनाशक पीने के कारण उत्पन्न अप्रिय स्थिति के फलस्वरूप मजिस्ट्रियल जाँच किए जाने का अनुरोध किया है।

यह भी पढ़े

उन्होंने बताया कि उक्त घटना के संबंध में सोशल मीडिया पर भी कुछ क्लिप्स देखे गये है तथा पूर्व में भी उक्त भूमि पर अतिक्रमण एवं विवाद पाये जाने के कारण स्थिति की गंभीरता के दृष्टिगत दण्ड प्रकिया संहिता की धारा 176 के तहत उक्त घटना की दण्डाधिकारी जांच कराये जाने हेतु के.एल. यादव, अनुविभागीय दण्डाधिकारी आरोन को जांच अधिकारी नियुक्त किया गया है।

अनुविभागीय दण्डाधिकारी आरोन को 14 जुलाई 2020 को उपरोक्त घटना किन परिस्थितियों में हुई, ऐसे कौन से कारण थे जिससे उक्त घटना घटित हुई, भूमि के इतिहास में क्या पृष्ठभूमि रही है, पूर्व में उक्त भूमि से अतिकमण हटाने के संबंध में क्या कार्यवाही की गई, इस घटना हेतु प्रथम दृष्टया कौन-कौन जिम्मेदार है,पर जांच करेंगे। इस प्रकार की घटना पुनः घटित न हो, इस संबंध में सुझाव भी देने के निर्देश दिए गए हैं।

एक सब-इंस्पेक्टर सहित 6 निलंबित

इस बीच पुलिस अधीक्षक गुना तरुण नायक ने पुलिस द्वारा उनि. अशोक सिंह कुशवाह थाना कैंट, आरक्षक 24 राजेन्द्र शर्मा पुलिस लाइन गुना, आरक्षक 490 पवन यादव पुलिस लाइन गुना, आरक्षक 561 नरेन्द्र रावत पुलिस लाइन गुना, महिला आरक्षक 946 नीतू यादव पुलिस लाइन गुना तथा महिला आराक 849 रानी रघुवंशी पुलिस लाइन गुना को घटना में संदिग्ध पाये जाने से निलंबित किया जाकर पुलिस लाइन गुना संबद्ध किया गया है।

Image

उन्होंने जारी आदेश में निलंबित उप निरीक्षक एवं आरक्षकों को बिना अनुमति के मुख्यालय नहीं छोड़ने के आदेश दिये हैं। निलंबित अधिकारी-कर्मचारियों को नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्ता पाने की पात्रता होगी।

Spread the love