ग्रामोदय मिशन से आएगी खुशहाली और गाँवों का होगा समग्र विकास-मुख्यमंत्री

  • मुख्यमंत्री चौहान तथा केन्द्रीय मंत्री तोमर ने किया मिशन ग्रामोदय का शुभारंभ
  • सवा लाख परिवारों को कराया गृह प्रवेश
  • साढ़े दस हजार से अधिक सामुदायिक निर्माण कार्यों का हुआ लोकार्पण

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि नगरोदय मिशन के बाद आज से पूरे प्रदेश में मिशन ग्रामोदय शुरू किया गया है। इस मिशन के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों का समग्र विकास किया जाएगा। मिशन के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में आवास सुविधाएँ देने के साथ ही मूलभूत और आधारभूत संरचनाओं का विस्तार भी किया जाएगा। इससे ग्रामीणों के चेहरों पर नई मुस्कुराहट और उनके जीवन में नई खुशहाली आयेगी। मुख्यमंत्री चौहान आज धार में ग्रामोदय मिशन के राज्य-स्तरीय कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में केन्द्रीय ग्रामीण विकास तथा कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर असम से वर्चुअली शामिल हुए।

गृह प्रवेश के साथ विकास कार्यों का लोकार्पण –

प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राही ग्रामीण क्षेत्र के सवा लाख परिवारों को प्रधानमंत्री आवास की सौगात देकर गृह प्रवेश करवाया गया। इन सवा लाख आवासों की लागत 1562 करोड़ रूपये है। ग्रामीण विकास विभाग के साढ़े 10 हजार से अधिक सामुदायिक निर्माण कार्यों का लोकार्पण भी किया गया। इनमें 6 हजार सामुदायिक स्वच्छता परिसर, दो हजार खेल मैदान, दो हजार शांति धाम और 634 पंचायत भवन शामिल हैं। कार्यक्रम में प्रधानमंत्री आवास योजना के 5 लाख हितग्राहियों को 2 हजार करोड़ राशि की विमुक्ति की प्रक्रिया भी शुरू की गयी।इसके अलावा मुख्यमंत्री श्री चौहान ने धार जिले के लिए 675 करोड़ रूपए लागत के 94 निर्माण कार्यो का लोकार्पण तथा भूमि-पूजन भी किया।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में प्रधानमंत्री आवास योजना का प्रभावी क्रियान्वयन किया जा रहा है। बेघरों के लिए तेजी से आवास बनाए जा रहे हैं। पिछले एक वर्ष में कोरोना काल की विपरीत परिस्थितियों में भी 3 लाख आवास का निर्माण पूरा कर जरूरतमंद परिवारों को दिए गए। हमारा प्रयास है कि वर्ष 2022 तक कोई भी आवासहीन नहीं रहे, सबका पक्का मकान हो। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार किसान हितैषी है। किसानों की भलाई के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी। किसानों के हक की बीमा राशि, राहत राशि, सम्मान निधि सहित अन्य सभी सुविधाएँ दी जाएँगी। उन्होंने कहा कि बैंकों में बकाया कृषि ऋण जमा करने की अंतिम तिथि बढ़ाई जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों के समग्र विकास के लिए मिशन ग्रामोदय प्रारम्भ किया गया है। इसमें हर गाँव में पक्की सड़क का निर्माण, हर ग्राम पंचायत का भवन, हर ग्राम पंचायत में मुक्तिधाम और खेल मैदान होंगे। हर गाँव के हर घर में नल से जल पहुँचाया जाएगा। इस वर्ष 26 लाख घरों में नल से जल पहुँचाने की व्यवस्था की जा रही है। अगले 3 वर्षों में एक करोड़ 2 लाख घरों में नल से जल पहुँचाने का कार्य किया जायेगा। मिशन ग्रामोदय में स्व-सहायता समूहों को आर्थिक रूप से मजबूत बनाया जाएगा। उन्हें मात्र 2 प्रतिशत ब्याज पर ऋण दिया जाएगा। स्व-सहायता समूहों को स्कूलों के बच्चों की ड्रेस बनाने तथा आँगनवाड़ियों के लिए पोषण आहार बनाने का कार्य सौंपा जा रहा है।

संबल योजना का लाभ हर जरूरतमंद परिवार को –

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि संबल योजना पुनः शुरू की गई है। इसके हर घटक का लाभ हर जरूरतमंद परिवार को दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में हर 20 से 25 किलोमीटर के दायरे में एक अत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त उन्नत स्कूल बनाया जाएगा। इसके लिए 1500 करोड़ रूपए का प्रावधान रखा गया है। ऐसे स्कूल के बच्चों को निःशुल्क परिवहन सुविधा भी उपलब्ध कराई जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कोरोना को नियंत्रित करने के लिए सभी संभव प्रयास किए जा रहे हैं। प्रदेश में भगोरिया सहित अन्य किसी भी त्यौहार एवं पर्व को मनाने पर रोक नहीं है। कोरोना प्रभावित जिलों में जन-स्वास्थ्य को देखते हुए निर्णय लिए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि धार में स्वर्गीय कुशाभाऊ ठाकरे के नाम पर बस स्टेण्ड तथा पीथमपुर में शासकीय महाविद्यालय का नया भवन बनाया जाएगा।

प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश देश में अव्वल –

केन्द्रीय पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि मध्यप्रदेश में ग्रामीण विकास योजनाओं विशेषकर प्रधानमंत्री आवास तथा प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना का प्रभावी क्रियान्वयन किया जा रहा है। अनेक ग्रामीण विकास योजनाओं के क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश देश के अव्वल 5 राज्यों में शामिल है।

तोमर ने कहा कि कृषि के क्षेत्र में भी मध्यप्रदेश में उल्लेखनीय कार्य किए जा रहे हैं। कृषि क्षेत्र में मध्यप्रदेश ने पंजाब और हरियाणा को भी पीछे छोड़ दिया है। उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश में प्रधानमंत्री आवास योजना के अन्तर्गत 3 लाख से अधिक आवास बन चुके हैं। तेजी से आवास बनाए जा रहे हैं। योजना के क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश देश में दूसरे नंबर पर है। प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश देश में पहले स्थान पर है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की मंशानुसार ग्रामीण क्षेत्रों में मालिकाना हक दिलाने के लिए स्वामित्व योजना प्रारम्भ की गई है।

प्रदेश के पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री महेन्द्र सिंह सिसोदिया ने कहा कि आज का कार्यक्रम अभूतपूर्व है। इस कार्यक्रम के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सपने को साकार रूप दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना अंतर्गत पूर्व में पौने दो लाख परिवारों को आवास दिए जा चुके हैं और आज सवा लाख परिवारों को आवास देकर गृह प्रवेश करवाया गया है। यह मध्यप्रदेश के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि है। प्रदेश में पाँच लाख और हितग्राहियों के लिए आवास बनाए जाएँगे। उन्होंने कहा कि ग्रामीण विकास के लिए धनराशि की कमी नहीं है।

Spread the love